True Love Story

वो हररोज़ मेरे घर के सामने से ही स्कूल जाया करती 
थी,उसके मेरे घर के सामने से गुजरने के 5 मिनट पहले से 
ही मैं इंतज़ार में उसके बस एक दीदार के लिए खड़ा रहता 
था।किसी वजह से अगर उसे किसी दिन नहीं देख पाता 
उस दिन किसी चीज़ में दिल ही नही लगता,अब तो उसे 
देखने की आदत सी हो चुकी थी।
               "क्यों तुझे ही देखना चाहती है मेरी आँखें,
               क्यों खामोशियाँ करती है बस तेरी बातें।
                क्यों इतना चाहने लगा हूँ तुझको मैं;
          की बस तारे गिनते हुए कटती है मेरी रातें।।"
                             मैं डेली उसके पीछे-पीछे कुछ दूर तक
 जाता वो पलटकर मुस्कुराती और चली जाती ।लेकिन
 कभी उससे बात करने की हिम्मत नही हो पाती थी,मैंने बहुत 
कोसिस की उसे अपनी दिल की बात बताने को,मैं घर में 
अपने अल्फ़ाज़ों को उसके सामने रखने की प्रैक्टिस करता
 था लेकिन उसके सामने जाते ही अक्सर मेरी बोलती बंद
 हो जाती थी,ऐसा बहुत दिनों तक चलता रहा। सारे स्कूलों
 में होली की छुट्टी हो रही थी,सभी अबीर में रंगे मस्ती करते 
हुए अपने घर की तरफ जा रहे थे।मेरी निगाहें उसे ढूंढ रही 
थी,जैसे ही मेरी नज़र उसपे पड़ी,निगाहें वहीँ थम गई,वो 
रंगों से रंगी और भी खूबसूरत लग रही थी,लाल,हरी,पिली 
साडी रंगे उसकी खूबसूरती को और भी बढ़ा रही थी।
 मैंने ठान ली की आज जो भी हो जाये,अपने दिल के 
अरमानों को उसके सामने लफ़्ज़ों के सहारे खोल दूंगा,
पर उसके सामने जाते ही मैं बोलना कुछ और चाह रहा था,
पर बोल ही नही पाया और  मेरे मुंह से निकली "आप रंगों 
में रंगे बहुत अच्छी लग रही हो,हैप्पी होली"।वो मुस्कुराते 
हुए "same 2 u" कह कर चली गयी,उसका ये मुस्कुराना 
हाय मुझे पागल सी कर गयी।
Devraj's Love Story💗 who is very special for me 
                         मुझे हर-पल बस उसकी वो रंगी-मुस्कुराती चेहरा ही नज़र आती थी।अब जब भी वो मेरे घर के पास
 से गुजरती तो मुझे देख कर मुसकुरा दिया करती थी,
उसकी बस एक हँसी मेरा पूरा दिन अच्छा कर देती थी।
उसके साथ उसकी 1 बहन भी जाती थी।इसलिए वो भी 
मुझसे बात नही कर पाती थी।एक दिन उसकी बहन उससे 
थोड़ी पीछे चल रही थी,मैंने उस पर ध्यान नही दिया था,
मैं उसे अकेला देख कर मन में ठान लिया की इस बार
 पक्का बोल कर रहूंगा,उसके पीछे-पीछे कुछ दूर जाते 
ही मोर पर वो अचानक से रुक गयी मैं सहम सा गया,
मेरी धड़कनें जोर जोर से धड़कने लगी,मुझे लगा शायद
 मेरी हरकतों की वजह से गुस्सा हो गयी,वो मुझे हल्के से 
आवाज में अपने पास बुलाई उसने तुरंत मेरे हाथ से 
फ़ोन लेकर fb पर खुद को "frnd reqst" सेंड कर दी,
और वहाँ से चली गयी मेरी आँखें खुली की खुली रह गयी,
कुछ देर तक तो समझ ही नही आया की आखिर 
ये हो क्या रहा है।
                            फिर उसने लंच में msg किया 
"hey what r u doing now" मैं उस टाइम 
ऐसे ही घर पर बैठा हुआ था,पर मैंने उससे झूठ कहा
 कि "lunch"। वो बोली अकेले-अकेले कम-से-कम 
मुझे तो बुला लिया होता,मुझे हँसी आने लगी फिर हमदोनो
 में उस दिन fb पर ही कुछ बात हुई और बोली अब घर 
जाकर बात करूँगी।अब हमदोनो में fb पर रोज़ाना ढेर 
सारी बाते होने लगी थी,रातों को टाइम का पता ही नही 
चल पाता था कि कब सुबह के 4बज गए। 31 DEC. 
उसका B'DAY वाला दिन,मैं सोच रहा था कि उसके 
लिए कोई ऐसा surprising गिफ्ट दूँ, जिसे देखकर वो 
बहुत खुश हो,पर मुझे ऐसी कोई गिफ्ट के बारे में पता 
नही था कि किन सी चीज लड़कियों को impressive 
लगती है।
         "काश कोई खुशियों की दुकान होती,
            और मुझे उसकी पहचान होती ।
           खरीद लेता हर ख़ुशी आपके लिए;
     चाहे उसकी कीमत मेरी जान ही क्यों न होती।।"
                              तो मेरे 1 frnd ने मुझे suggest 
किया "ताजमहल" की statue  जो की मुझे बहुत पसंद 
आयी जो 1 काँच के अंदर बंद था और रंग-बिरंगे पानी 
के फब्बारे उसकी सोभा को बढ़ा रहे थे,उस दुकान में 
गिफ्ट को अच्छे से editing और सजाया भी जाता था,
तो मैंने दुकान वाले से उसको पैक करवा लिया।लेकिन 
अब सबसे बढ़ी समस्या यह थी की मैं उसके B'DAY में 
शामिल कैसे होऊँ,ताकि वो गिफ्ट देकर उसकी आँखों में 
ख़ुशी देख सकूँ।। .to be continued...
                        💗💗DEVRAJ💗💗

Comments

Anuj said…
Very heart touching

Popular posts from this blog

तन्हाई भरी यादें