तुम्हारे बिना बीती पहली बारिश।


BHOPAL में तुम्हारे बिना बीती पहली बारिश के नाम कुछ बातें..हम जब जब मिलते हैं तब तब बारिश होती है, शायद उपरवाला भी हमदोनों को मिलाना चाहता है..

                ℓσg ραтα ηнι αρηι gιяℓғяιεη∂ кσ נαηυ sσηα,ηιмвυ-ραηι,ιмℓι,мιяcнι σя η נαηε күα күα кεн кя вυℓαтε нαι... ρя мαι αρηι ωαℓι кσ zιη∂αgι кεн кя вυℓαтα нυ.



              सपनों को पाने के लिए भागते-भागते दिन किसी तरह कट जाता है,लेकिन रात में इस चाँद को देखकर सिर्फ तेरा चेहरा नज़र आता है। भीड़ बहुत है, इस शहर में फिर भी हर पल तेरी कमी महसूस करता हूँ। देखता हूँ जब तेरी तस्वीर निकालके, आंखों में हल्की नमी महसूस करता हूँ। तेरा बेधड़क हँसना, तेरा कंधे पर सर रखकर रोना,तेरी बेकूफियां करना, तेरा बातें करते-करते कंधे पर सर रखकर सोना, हर बात पे कसमें खाना, हर बारिश में साथ भीगने के लिए होना, बहुत याद आता है ये सब। ये शहर अकेला महसूस कराता है.. मैं औऱ भी अकेला महसूस करता हूँ, जब इस शहर में बारिश होती है, क्योंकि इस बारिश में जो खास था, वो तुम्हारे होने का एहसास था ।अब तो ये बारिश भी मुझे रास नही आती, क्योंकि तुम जो पास बैठकर नहीं बतलाती।  भींगती भींगती ... दी थी तुम मुझे दिखाई... पहली बार बारिश की चुभती बूंदों में थी गुदगुदी पाई। बारिश से बचने के लिए पेडों के पीछे छिपना, औऱ पेड़ के पत्तों से होकर बारिश की मोटी बूंदों को अपने बदन पर पाकर, उफ...यहाँ भी...... तुम्हारे लफ़्ज़ों से ये सुनना बहुत याद आता है। याद आती है वो सारी बातें जब तुम बारिश की बूंदों से बचने के लिए मेरे और भी करीब आ जाती थी, और साँसों की गर्मी एक-दूसरे से कुछ कहा करती थी। याद है मुझे वो,जब तुम बारिश से बचते-बचते पूरा भींग चुकी थी,और अब तुम्हें भी बारिश अच्छी लगने लगी थी। फिर यूँ निकल पड़े थे हम बारिश में भींगने, और सारे देखते रह गए थे। 

        Badal Bin Barsaat Nahin Hoti, 

       Suraj Doobe Bina raat Nahin Hoti,      now there are a condition of our,              Aapko Dekhe Bagair       Din Ki Shuruwat Nahin Hoti 



                      **DEVRAJ**

     उस बारिश में भींगते हुए तुमसे बातें करना और तुम्हारी आँखों में यूँ खो जाना,बहुत miss करता हूँ मैं इनसब चीज़ों को। रास आता है मुझे तेरे साथ रहना, बातें करना और तेरी ओर ताकते रहना। तेरे साथ बिताए हुए हर एक पल का हिसाब है मेरे पास, हर वो एहसास है जो मैंने feel किया है साथ रहके तेरे, याद आता है मुझे,तेरे जुल्फों से खेलना और तेरा मज़ाक बनाना, छोटी-छोटी बातों पर तेरी नाराज़गी और उस नाराज़गी में प्यार भरा एहसास, हाय....तेरे इसी प्यार पे तो मर-मिटने को जी चाहता है। याद है मुझे वो पहली मुलाकात जिसमें बारिश हमें न चाहते हुए भी हल्की-हल्की भींगा रही थी, कहते हैं बारिश में हुई मुलाकात खास होती है, और अगर मुलाकात भी पहली हो तो जोड़ी भी बहुत खास हो जाती है, और मुझे जहाँ तक याद है हमारी लगभग हर मुलाकात में बारिश की बूंदें हमारा साथ देती है, और चीख-चीखकर यही बतलाती है कि हमारी जोड़ी बहुत खास है, औऱ मेरे लिए तो सबसे खास तुम हो |

Tumse milke jaane ki pyaar kya hota hai, zindagi jeene ka _Ehsaas kya hota hai..





Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

तन्हाई भरी यादें

तेरे प्यार का दीवाना हो गया।।